सोलह108 एम्बुलेंस के भरोसे 22 लाख की आवादी

जिले में कुल 22 हैं 108 वाहन, जिनमें से 6 की हालत हुई लगभग कंडम
सागर राघवेन्द्र सिंह राजपूत। प्रदेश के मुखिया शिवराज सिंह चौहान भले ही प्रदेश की स्वास्थ्य सेवाओं को लेकर संजीदा हों मगर स्थानिय जनप्रतिनीधि और प्रशासन उनकी संजीदगी का माखौल उड़ाते नजऱ आ रहे हैं और यही वजह है कि अब 108 को भी 108 की ज़रूरत महसूस हो रही है। जिलें में 22 लाख से अधिक की जनसंख्या महज बाईस 108 के भरोसे है जिसमें108_ambulance_news_mp_2016101_113435_01_10_2016 से लगभग 6 दम तोड़ चुकी हैं। अब अधिकांश जनता भगवान भरोसे है।
अगर आपके सामने कोई हादसा हो जाता है या आपके साथ ही कोई दुर्घटना हो जाए तो आप क्या करेंगे, शायद सबसे पहले 108 एंबुलेंस को कॉल करेंगे। लेकिन हम आपको बता दें कि अगर आप सागर जिले में हैं तो शायद आपको 108 से तत्काल साहयता कि उम्मीद छोड़ ही देनी चाहिए…क्योंकि सागर में 108 को  खुद 108  की जरुरत है।
अगर आपके सामने या आपके साथ कोई हादसा हो जाए तो आप सबसे पहले 108 से राहत और मदद की उम्मीद करगें, लेकिन सागर जिले में हादसे के बाद 108 से मदद मांगने पर ज्यादातर लोगों को निराशा ही हाथ लगती है। जिसकी वजह है कि सागर शहर में 5 में से केवल एक ही 108 चालू हालत में है बाकि की गाडिय़ां ऑफ  रोड हो चुकी हैं, यही आलम पूरे जि़ले का है। सागर जिले में कुल बाईस 108 वाहन हैं। जिसमें से ज्यादातर गाडिय़ां लगभग कबाड़ हो चुकी हैं। यही वजह है कि 108 से मदद मांगने पर या तो समय पर उपलब्ध नहीं हो पाती है या देर से पहुंचती हैं। जिसकी वजह से कई लोगों को अपनी जान से भी हाथ धोना पड़ा हंै। पिछले दिनों खुरई रोड पर हादसे का शिकार हुए मुनीर खान लगभग 40 मिनट तक सड़क किनारे पड़े रहे कई बार 108 को कॉल करने पर भी वह नहीं पहुंची। आखिरकार उन्हें ऑटो रिक्शा से अस्पताल पहुंचाया गया लेकिन ज्यादा खून बह जाने के कारण उनकी मौत हो गई। ऐसा ही एक मामला शनिवार को भी मकरोनिया में एटीएम से पैसे निकालने गए विनोद पांडे को अचानक दिल का दौरा पड़ गया। वहां मौजूद लोगों ने 108 को तुरंत कॉल किया लेकिन वह नहीं पहुंची जिसके बाद उन्हें भी ऑटो रिक्शा में अस्पताल ले जाया गया जहां उनकी मौत हो गई।
इस संबंध में यह जानकारी मो. रईस ख़ान ने दी। मृतक मुनीर ख़ान का इनका चाचा था और सुरेन्द्र चौधरी, पूर्व मंत्री ने 108 को लेकर चिन्ता व्यक्त करते हुए जानकारी दी।
विधायक शैलेन्द्र जैन ने बताया कि 108 की इस हालत पर कोई न तो जवाब देने को तैयार है न ही जिम्मेदारी लेने कोण्ण्ण्जि़ला प्रशासनए सीएमएचओ से लेकर 108 मैनेजमेंट तक इस लापरवाही से अपना पल्ला झाड़ते नजऱ आए। हालांकि सागर नगर विधायक शैलेन्द्र जैन का कहना ही की जल्द ही हालात दुरुस्त कर लिया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *