सीईओ पर पद के दुर्पयोग का लगाया महिला जिपं सदस्य ने आरोप

screenshot_2016-09-30-18-24-13-864अण्डे, टमाटर एवं कले के छिलके भी फेंके जा सकते है
सागर। जिला पंचायत सागर की साधारण सभा की बैठक में जिला पंचायत मुख्य कार्यपालन अधिकारी राजीव रंजन मीणा द्वारा पद का दुरूपयोग कर अनुशासनहीनता करते हुए गलत रिपोर्ट की निष्पक्ष जांच कर कार्यवाही की मांग करते हुए आईजी कार्यालय में जिला सदस्यों ने निष्पक्ष जांच की मांग करते हुए कहा कि यदि इस तरह की भ्रष्टाचार पर रोग नहीं लगी तो आगामी बैठकों में अण्डे, टमाटर एवं कले के छिलके भी फेंगे जा सकते है। ज्ञापन देने आये जिला पंचायत सदस्यों एवं जनपद अध्यक्षों ने कहा कि यदि एक सप्ताह में न्याय नहीं मिला तो समस्त पंचायती राज के सदस्य आंदोलन करेंगे।
जिला पंचायत सदस्य ज्योति पटेल एफआईआर दर्ज होने के मामले में कहा कि यदि भ्रष्टाचार का मुद्दा उठाना गलत है एवं भ्रष्टाचारियों के खिलाफ आवास उठाना गलत है तो मेरे ऊपर जो  मुकद्मा लादा जा है उसे न्याय संगत माना जा सकता है। इसी तरह का आरोप अन्य सदस्यों ने भी लगाया कि सीईओ का व्यवहार ठीक नहीं है।
उपस्थित जिला पंचायत सदस्यों सीईओ पर आरोप लगाया है कि सदन की बैठक की कार्यवाही के दौरान अध्यक्ष बिना अनुमति के वह बैठक का बहिष्कार कर बाहर चले गये। यह सदन की अवमानना नहीं है तो क्या है? एवं पंचायत अधिनियम में प्रदृत्त पंचायत प्रतिनिधियों के अधिकारों का हनन किया गया है। ज्ञापन मेंं सीईओ महोदय की ताना शाही का जिक्र करते हुए बताया कि 100 सचिवों के स्थानांतरण नियम विरोध किये गये है जिनमें से कुछ सचिवों ने माननीय उच्च न्यायालय जबलपुर से स्टे ले किया है तथा सामान्य प्रशासन समिति सदस्य आशा सिंह सचिव स्थानांतरण में बार-बार कहा गया है कि 3 वर्ष कम अवधि के सचिवों के स्थापना वाले सभी सचिवों के स्थानांतरण अनुमोदन सामान्य प्रशासन समिति से कराये। इसी तरह जिला पंचायत सदस्य गुलाब चंद गोलन ने जमा राशि का विवरण चाहा तो सीईओ उत्तेजित हो गये और बोले कि यह आवश्यक नहीं है कि आप चुप हो जाये। यह व्यवहार आपका असम्मानजनक नहीं हो तो क्या है? इस तरह 14 मांगों का ज्ञापन गृह मंत्री मप्र शासन, मुख्य सचिव, डीजीपी, आईजी, कलेक्टर सागर, एसपी सागर को अधिकांश जिला पंचायत सदस्यों आज ज्ञापन दिया।
जिला पंचायत सदस्य ज्योति पटेल पर मुद्दमा कायम
28 सितम्बर को जिला पंचायत सदस्य ज्योति पटेल द्वारा साधारण सभा की बैठक में एजेण्डा की काफी फाड़कर एवं चूडिय़ा जिला पंचायत सीईओ की टेबिल पर फेंकने के आरोप में 29 सितम्बर को गोपालगंज थाने धारा 353, 500 का अपराध पंजीवद्ध होकर विवेचना जारी की गई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *