नशामुक्त पंचायतों को मिलेंगे 11 लाख

16930974_659597654243738_1948911057_o (1) copyरहस लोकोत्सव मेले को लेकर समीक्षा बैठक में पंचायत मंत्री ने कहा
इस बार रहस मेला होगा कुछ नये रंग में
रवि सोनी गढाकोटा। जो ग्राम पंचायते नशा मुक्त होगी उन पंचायतों को में गांव के विकास के लिए 11 लाख रू. दिए जाएंगें उन पैसों से पंचायत विकास के कोई भी कार्य करा सकती है। यह बात 2 मार्च से शुरू होने जा रहे रहस लोकोत्सव मेले को लेकर समीक्षा बैठक में पंचायत मंत्री ने कहा।
शासकीय महाविद्यालय गढाकोटा में रहस लोकोत्सव आगामी 2 मार्च से शुरू होने जा रहा है जिसकी तैयारी को लेकर पंचायत मंत्री गोपाल भार्गव की उपस्थिति में जिला कलेक्टर विकास नरवाल, एवं जिला पंचायत सीईओ राजीव रजंन मीणा द्वारा विभागीय अमले की एक महत्वपूर्ण बैठक आयोजित की गई जिसमें जिले के सभी विभागों के अधीनस्थ अधिकारी एवं कर्मचारी मौजूद रहे।
कलेक्टर विकास नरवाल ने बैठक में उपस्थित कर्मचारियों को बताया कि पिछले वर्ष के रहस लोकोत्सव को लेकर इस वर्ष थोडा अन्तर लाना चाहता हूँ। हम सभी को चार पांच दिन के लिए मंच मिल रहा है जिसमें प्रयास हो कि सभी विभागों को अधिक से अधिक लाभ मिल सकें। पहले दिन दो मार्च को होने वाले रहस लोकोत्सव में कलेक्टर नरवाल ने विभागीय कर्मचारियों एवं अधिकारियों को निर्देश दिए कि वे 28 फरवरी तक नि:शक्त जनों को मिलने वाली ट्राई साईकिल, व्हील चेयर, श्रवण यंत्र, आदि की जानकारी सूची बनाकर उपलब्ध करायें ताकि नि:शक्तजनों को लाभ दिया जा सकें कलेक्टर ने कहा कि अस्थिवधित व्यक्तियों को लेपटॉप दिया जायेगा जिसका 60 प्रतिशत विकलांग होना चाहिए। नि:शक्त व्यक्ति का नरवाल ने पोर्टल पर नाम दर्ज करने के निर्देश मैदानी अमले को दिए। हितग्राहियों का चयन मूल दस्तावेज के साथ किया जायेगा। उन्होंने कहा कि ग्रामीण क्ष़ेत्र के सचिवों के माध्यम से नि:शक्त जन व्यक्तियों की सूची ऑनलाईन कराके 28 फरवरी तक उन्हें मिल जानी चाहिए ताकि कोई व्यक्ति लाभ लेने से वंचित न रह सकें।
बैठक में मौजूद पंचायत मंत्री गोपाल भार्गव ने कहा कि जो ग्राम पंचायते नशा मुक्त होगी उन पंचायतों को में गांव के विकास के लिए 11 लाख रू. दिए जाएंगें उन पैसों से पंचायत विकास के कोई भी कार्य करा सकती है। कलेक्टर नरवाल ने कहा कि गांव के सचिव नशा मुक्त ग्राम घोषित कराने का प्रयास करें तथा कितने लोगों ने नशा छोडा यह जानकारी भी विभाग को सौपें जिसने नशे को छोडा उसका सम्मान किया जाएगा। उन्होंने कहा कि केसली के सागौनी ग्राम में लोग नशे नहीं करते है वह ग्राम ओडीएफ की तरह हो गया है। इसलिए आप लोग यह प्रयास करें कि रहली तहसील के कम से कम पांच ग्राम नशा मुक्त हो जायें और आने वाले समय में सभी ग्रामों के लोगो को नशा मुक्ति के लिए अभियान चलाकर गांव में जो शराब बेंचते है मुझसे शिकायत करें एवं पुलिस को बतायें में उस ग्राम में शराब नहीं बिकने दूंगा।
भार्गव ने कहा कि कई गांव की महिलाओं के मेरे यहां फोन आते है कि उनका पति शराब पीकर उत्पात मचा रहा है इसलिए नशा मुक्ति के लिए अभियान चलाना अति आवश्यक है उन्होंने सभी सचिवों को निर्देश दिए कि नशा मुक्ति के लिए गांव में जागरूकता फैलांये जिस ग्राम पंचायत के लोग 6 माह तक नशा मुक्त रहेंगें उन पंचायतों को मेरी ओर से दस से पन्द्रह लाख रूपये दिए जाएगें हालॉकि नर्मदा सेवा यात्रा के माध्यम से भी नशा मुक्ति पर जोर दिया जा रहा है। भार्गव ने कहा कि प्राइवेट महिला स्व. सहायता समूहों को भी सरकारी स्व. सहायता समूहो से जोडे जाने की बात कही उन्होने कलेक्टर को निर्देष देते कहा कि छात्र- छात्राओं की परीक्षा होने के पूर्व जिला स्तर पर सामान्य ज्ञान परीक्षा आयोजित की जाए जिससे बच्चों का मानसिक विकास हो सकें। आगे उन्होने कहा कि कृषकों को उन्नत कृषि की तकनीकी एवं किसानों को कौन-कौन फसलें उपयोगी है तथा कौन सा बीज कहां-कहां से प्राप्त किया जा सकता है जिसके लिए मास्टर ट्रेनर्स प्रशिक्षण देंगे। कृषि विभाग के डीडीए को कलेक्टर नरवाल ने 1 मार्च से लेकर 7 मार्च तक रहस मेंले में मशीनो सें सैपंल लिए जाने के निर्देश दिए। उन्होंने तेंदूपत्ता संग्रहको को मिलने वाले लाभांष तथा कौन-कौन सी योजनाएं वनांचल के लोगों को चलाई जा रही है तथा वन समितियों के अधिकारों को लेकर प्रशिक्षण दिए जाने के निर्देश दिए साथ ही अंत्योदय मेले में लोगों को मिलने वाले लाभों के लिए सभी विभागों के स्टॉल लगाने को भी कहा। महिलाओं के रोगों से सबंधित उपचार के लिए महिला डॉक्टर द्वारा प्रशिक्षण देने की आवश्यकता पर भी बल दिया। लाडली लक्ष्मी योजना, मातृत्व योजना, सौर्य दल, किशोरी बालिकाओं को रहस लोकोत्सव में प्रशिक्षण दिए जाने के निर्देश दिए भार्गव ने कहा कि आगामी समय मे प्रधानमंत्री आवास योजना के अंतर्गत 1 लाख ग्रामीणों आवास दिए जायेंगें जिसको लेकर प्रषिक्षण भी दिया जायेगा।
कार्यक्रम रूपरेखा
2 मार्च- मेला उद्घाटन समारोह, जिला स्तरीय स्र्पश मेला एवं नशा मुक्ति सम्मेलन।
3 मार्च- राज्यस्तरीय पंचायती राज सम्मेलन, आजीविका स्वसहायता समूहों का राज्य स्तरीय सम्मेलन, तेदूॅपत्ता सगं्राहको का राज्य स्तरीय सम्मेलन, जिला स्तरीय अंत्योदय मेला एवं राज्य स्तरीय स्वच्छता सम्मेलन।
4 मार्च- जिला स्तरीय स्वास्थय मेला, जिला स्तरीय मातृत्व मेला।
5 मार्च – प्रधानमंत्री आवास योजना के पात्र हितग्राहियों का सम्मेलन एवं प्रशिक्षण।
6 मार्च – जिला स्तरीय रोजगार मेला।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *